Tags

, ,


Rohit Dhankar/रोहित धनकर

[This is a survey. Please give your opinion. यह एक सर्वेक्षण है. कृपया अपना मत बताइए.]

(इस पोस्ट का हिंदी अनुवाद नीचे है, स्क्रॉल करें.)

Facts:

According to a news item in The Indian Express on 4th October 2015 a “UP Homeguard spread beef rumour to instigate attack on father and son, says police.” The paper further says, “According to a senior police officer, Vinay [the homeguard] had a personal dispute with Akhlaq earlier and had been instigating a group of youths to attack his family, alleging that they were involved in cow slaughter.” (Emphasis added)

Let us take this news item as the truth. Actually it may or may not be true, but for the purpose of this little survey I want to run suppose that it is true. Rest of the analysis and questions all assume this statement to be the truth. Hope I do not need to repeat it any more.

Now my claim is: “If this is the truth then Hindu religion has to bear the blame for Dadri lynthing.”

What is your opinion? Please express below in the comments.

Arguments for and against:

  1. The claim made above is not justified. Because:
    1. The real reason is the personal enmity between the homeguard and Ikhlaq.
    2. The homeguard used Hindu religion to instigate public sentiment and lynch Ikhlaq.
    3. The homeguard most probably did not believe in the religious injunction on beef eating.
    4. He certainly did not believe that Ikhlaq has killed a calf or cow.
    5. His own sentiments had nothing to do with his religion, they were governed by his personal enmity with Ikhlaq.
    6. Therefore, it cannot be blamed on Hindu religion.
  1. The claim made above is justified. Because:
    1. Yes, there was enmity between the homeguard and Ikhlaq, and that certainly was one of the reasons for the situation that developed.
    2. But, the homeguard could instigate the Hindu mob because their religion has certain beliefs (at least according to the people in the mob) regarding not eating beef.
    3. And, their religion has created a community with a strong sense of belonging, and identity; and this identity is seen by the mob-members as opposed to Muslim identity.
    4. They believed that the Muslims insult their belief and disrespected cow. And they wanted to protect (either genuinely or pretentiously under the influence of mob-mentality) their own respect and respect for cow. Alternatively, because of the same Hindu-Muslim identity issue they wanted to establish Hindu supremacy.
    5. Which means that the Hindu religion has created a mind-set that was ready to be exploited by the homeguard.
    6. Therefore, the Hindu religion should be blamed.

What do you think? What are your arguments?

Please give your true opinion in the comments, however, you can give it anonymously if you like. Hoping to get a reasonable number of responses.

==================================

तथ्य:

अंग्रेजी अख़बार The Indian Epress में छपी ४ अक्टोबर २०१५ की एक खबर के अनुसार, “उत्तर प्रदेश के एक होमगार्ड ने पिता-पुत्र पर हमला करवाने के लिए यह अफवाह गोमांस की अफवाह फैलाई. ऐसा पुलिस का कहना है.” अख़बार आगे लिखता है: “एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार विनय [होमगार्ड] का इखलाक से कोई व्यक्तिगत विवाद था. और इस लिए वह युवाओं के एक समूह को इखलाक के परिवार पर हमला करने के लिए उकसा रहता, यह आरोप लगते हुए कि वे लोग (इखलाक के परिवार वाले) गौहत्या में लिप्त हैं.”

तर्क के लिए मान लीजिये कि यह खबर सत्य है. वास्तव में यह सच भी हो सकती है और झूठ भी. लेकिन मेरे इस छोटे से सर्वेक्षण के लिए मान लीजिये की यह सच है. यह तथ्य है. आगे का सारा विश्लेषण और सवाल इस खबर को सच मान के लिए गए हैं. आशा है की खबर को सच मानने की बात को आगे दोहराने की जरूरत नहीं है.

अब मेरा दावा (claim, मानना)  यह है: “यदि यह खबर सच है तो दादरी ह्त्या-कांड के लिए हिन्दू धर्म दोषी है.”

आप का क्या मत है? कृपया अपना मत नीचे कमेंट्स में दीजिये.

पक्ष और विलाक्षा में तर्क:

  1. ऊपर हिन्दू धर्म के बारे में किया गया दवा अनुचित है, सिद्ध नहीं होता. क्यों कि:
    1. अशाली कारण होमगार्ड और इखलाक के बीच की दुश्मनी है.
    2. होमगार्ड ने हिन्दू धर्म का उपयोग जनभावनाओं को भड़काने के लिए किया.
    3. बहुत संभव है कि होमगार्ड तो गौमांस खाने के धार्मिक निषेध में विश्वास ही ना करता हो.
    4. यह तय है कि वह यह नहीं मानता था कि इखलाक ने गौवध किया है (क्यों की उसे तो सच्चाई का पता था).
    5. होमगार्ड की स्वयं की भावनाओं का धर्म से कोई लेना-देना नहीं था, वह तो व्यक्तिगत दुश्मनी से संचालित था.
    6. अतः, इस के लिए हिन्दू धर्म को दोषी नहीं ठहराया जा सकता.
  1. ऊपर क्या गया दवा उचित है (सिध्ह है), क्यों कि:
    1. निसंदेह होमगार्ड और इखलाक के बीच दुश्मनी थी, और निसंदेह जो परिस्थियां बनाई गई उस के पीछे यह एक महत्वपूर्ण कारण था.
    2. पर होमगार्ड हिन्दू-भीड़ को भड़काने में सफल हुआ ही इसलिए कि उनके धर्म में गौमांस खाने को पाप माना जाता है, कम से कम उस भीड़ के अनुसार.
    3. और, उनके धर्म ने एक समुदाय बनाने में मदद की है जिसमें लोगों में ‘उस समुदाय का सदस्य’ होने का एक प्रबल भाव है, एक अस्मिता भी बनाई है; और इस अस्मिता का ‘मुसलिम-अस्मिता’ से विरोध है, ऐसा भीड़ के लोग मानते थे.
    4. वे यह भी मानते थे कि मुसलमान उनके विश्वासों का और गाय का अपमान कर रहे थे. और वे लोग अपने विश्वासों और गाय के लिए सामान को कायम करना चाहते थे, (या तो वास्तव में या भीड़-संचालित मानसिकता में.) या फिर, इसी हिन्दू-मुसलिम अस्मिता से संचालित हो कर वे मुसलामानों पर हिन्दू प्रभुत्व स्थापित करना चाहते थे.
    5. इस का अर्थ यह हुआ कि हिन्दू धर्म ने ऎसी मानसिकता बनाई जो होमगार्ड द्वारा उपयोग किये जाने के लिए तैयार थी.
    6. अतः, इस घटना के लिए हिन्दू धर्म ही दोषी है.

आप का क्या मत है? और उसके पीछे अप्प के क्या तर्क हैं?

कृपया कमेंट्स में अपना असली मत दीजिये, चाहें तो नाम ना दें. आशा है समुचित संख्या में लोगों के विचार आयेंगे.

*******