Wishing Happy New Year to all

January 1, 2020

सभी को नव वर्ष की शुभ कामनाएँ

रोहित धनकर

[This is written in both Hindi and English. No attention is paid to accurate translation. Roughly the same ideas are expressed. Written in a hurry, pay attention to ideas and ignore language and grammar.]

इस नए साल में हम बेहद ऊग्र वैचारिक खींचातान के  साथ प्रवेश कर रहे हैं। लोक के दिमाग में उतनी ही धुन्ध है जितनी उत्तर भारत के बड़े इलाकों में। तीन कट्टर विचार-धाराएँ देश को दो अशुभ दिशाओं में खींच रही हैं। एक विचार धारा इस देश को पांथिक-राष्ट्र नहीं तो पंथ विशेष को अधिक महत्व देने वाला राष्ट्र जरूर बनाना चाहती है। बाकी दो एक साथ मिलकर देश में व्यवस्था के हर प्रयत्न को एक समुदाय विशेष के साथ अन्याय के रूप में प्रस्तुत करके अव्यवस्था और गैर-बराबरी को दूसरी दिशा में मोड़ना चाहती हैं। तीनों कट्टर विचार-धाराओं के और दोनों धड़ों के अपने-अपने निहित स्वार्थ और अपने-अपने अजेंडा हैं। पर साथ ही बहुत बड़ा तबका दोनों के नेताओं द्वारा प्रसारित गलत-तथ्यों और गलत व्याख्याओं पर विश्वास भी करता है।

We are entering this new year with violent ideological struggle. The large areas of north India are under dense fog, with very limited visibility; which seems to symbolise the state of mind of the Indian citizenry at the moment. Presently three bigoted ideologies are pulling India in two wrong direction. One of these ideologies wants to make India into a country which gives more importance to one particular religion; even if it does not go as fat as to make it a theological state. The remaining too are cooperating to misinterpret every step taken to solve problems long standing problems to prove that a particular community is targeted. This creates a different kind of inequality in the opposite direction of the first one. All three bigoted ideologies and both the groups have their own vested interests and agendas. But at the same time a large number of citizens also believe in the propaganda spearheaded by the leaders of the three ideologies. This propaganda involves falsehood and deliberately wrong interpretations as well.

ऐसी स्थिति में नए साल में इस देश को सौहार्द्र की जरूरत है, जो सब की बात को शांति से सुनने-समझने की मति देता है। और निहित स्वार्थों की घोषणा से पहले अभिव्यक्त मत के अर्थ और तर्क को समझने की कोशिश करता है।

In such a situation this country needs good-wishes for all in every single heart, because good-wishes for all may help in listening to all with calmness and pay attention required to understand their worries and arguments. This also helps in attempting to understand the meaning and arguments of opponents before jumping onto their vested interests.

निष्पक्षता की जरूरत है जो पक्ष-विपक्ष को दोस्ती-दुश्मनी नहीं विवेक के आधार पर जाँचने की क्षमता देती है।

We need fairness which gives us capability to examine all views on the basis of religion and not on the basis of friendship and animosity.

विवेक की जरूरत है जो करुणा और क्रोध दोनों के पार जा कर केवल सत्य और नैतिक दृष्टि से उचित को स्वीकार करने की हिम्मत दिखा सके।

We need reason which has the capability to beyond compassion and anger; which is capable of showing courage to accept only the truth and morally good.

दृढ़ता की जरूरत है जो व्यक्तिगत आक्रमण की परवाह किए बिना काले को काला और सफ़ेद के सफ़ेद कहने का साहस देती है।

We need strength which helps in disregarding personal attacks and always call a spade a spade.

सूक्ष्म दृष्टि की जरूरत है जो लोकतन्त्र और धर्म-निरपेक्षता का लबादा पहने कट्टर-धार्मिक उन्मादियों को पहचान सके।

We need fine judgment which may help us recognise religious bigots masquerading as supporters of democracy and secularism.

इस देश का भविष्य भली-भली बातों पर नहीं, सत्य और विवेक की आंच झेलपाने की ताकत कर निर्भर है।

The future of this country depends on capability to face the heat of truth and reason; and not on goody-goody talk.

नव वर्ष के लिए मेरी कमाना है:

हर भारतीय का स्वविवेक पूर्णतया सत्यभिमुख हो,

हर भारतीय में सत्य से बिना पलक झपकाए आँख मिलाने का साहस हो,

हर भारतीय में अपने विरोधी की बात को समझने की सद्बुद्धि हो।

Therefore, my wishes for this country are:

May every Indian have his own reason completely focused on the truth,

May every Indian have the courage direct an unblinking gaze into the eyes of the truth,

May every Indian have good sense of listening and understanding his opponent.

*******

1 जनवरी 2020